Saturday, 28 February 2015

लघुकथा :- दोहरा चरित्र
-----------------------------

अपनी फ़िल्म "दोहरा चरित्र" के प्रमोशन के लिये सड़कों पर उतरे अभिनेता , अभिनेत्री और निर्देशक ने दिनभर बड़े जोशोखरोशो के साथ रोड शो करने के बाद शाम को एक पांच सितारा होटल में प्रेस वार्ता में पत्रकारों के साथ रूबरों हो रहे थे कि अचानक सभा में सन्नाटा छा गया जब एक पत्रकार ने निर्देशक से इसी फ़िल्म में कार्य कर रही अभिनेत्री के कास्टिंग काउच प्रकरण मामलें में पिछले महीने उन्हें कोर्ट कचहरी के दर्शन कराने के बाद उसका केस को वापस लेना , कहीं उस नवोदित अभिनेत्री को यह रोल इनाम के तौर पर तो नहीं दिया गया ? प्रश्न पूछना ।

तभी अभिनेत्री ने माइक अपने हाथ में लिया और उलटे मीडिया के ऊपर सिर्फ टीआरपी के लिये घटना को तोड़ मरोड़ कर उसे पेश करने का दोषारोपण करते हुए कहा ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था उनके साथ और डाइरेक्टर साहब उनके लिए पिता तुल्य पथ प्रदर्शक है और वह हमेशा उनके साथ काम करना चाहेंगी ।
(पंकज जोशी) सर्वाधिकार सुरक्षित
लखनऊ । उ०प्र०
01/03/2015


No comments:

Post a Comment