Saturday, 4 April 2015

हादसा 
--------
बरसों पहले अंजू ने मेरी गरीबी का मजाक उड़ाते हुए पूरी क्लास के सामने मेरे प्यार को ठुकरा दिया था। आज वही मेरे सामने दामन फैला कर अपने सुहाग की भीख मांग रही है , दरवाजे के कोने में खड़ी उसकी लड़की अपनी गुड़िया से कह रही है डा० साहब आ गये हैं अब तुम्हे कुछ नहीं होगा

(पंकज जोशी) सर्वाधिकार सुरक्षित ।
लखनऊ । उ.प्र

31/03/2015

No comments:

Post a Comment