Wednesday, 14 October 2015

स्वत्व


" क्यूँ री तेरे खान पान रहन सहन में क्या कमी रखी जो तू हमें ही आँखे दिखा रही है । " 

" तूने कोई कसर नहीं छोड़ी मौसी पर मैं आँखें बंद कर उस लड़के को हाँ भी नहीं कह सकती । ऐसे व्यक्ति से जिसका अपना कोई अस्तित्व ना हो  मैं उसके साथ ज़िन्दगी कैसे गुज़ार दूँ ? तुम्ही बताओ ?

" ऐसा ना हो कि तुझे कल पछताना पड़े ।  " " पछताना कैसा मौसी क्या समाज के लिये स्वयं की बलि चढ़ा दूँ ? बगैर स्वत्व का भान किये ? "

( पंकज जोशी ) सर्वाधिकार सुरक्षित ।
लखनऊ । उ०प्र०
१४/ 10 / २०१५

No comments:

Post a Comment