Monday, 19 October 2015

सच्चा व्रत

मंदिर में स्वामी जी का प्रवचन चल रहा था । 
" मनुष्य का अपनी वृतियों पर नियंत्रण ही सच्चा व्रत है । "
इन चंद शब्दों ने उसके अंतर्मन को बींध कर रख दिया । अब वह पहले जैसा नही रहा था । 

मार्ग के पथरीले पत्थर उसका इन्तेजार कर है ।

( पंकज जोशी )सर्वाधिकार सुरक्षित ।
लखनऊ । उ०प्र०
१९/१०/२०१५

No comments:

Post a Comment