Monday, 19 October 2015

माँ

" अरे  पकड़ो पकड़ो , पकड़ो  उस चोर को  ! बस रोको भई । अरे मेरी पत्नी हस्पताल में भर्ती है उसकी दवाई लानी है । अरे कोई तो पकड़ो उसे।"

 तभी एक व्यक्ति छोटे से बच्चे को घसीटता हुआ लाता है । 

 " भाईसाहब  यह लो आपका मुजरिम " " क्यों बे ! इतनी छोटी सी उम्र में चोरी चकारी क्या यही सिखाया है तुझे तेरे  माँ बाप ने ? । व्यक्ति ने उसको बालों से खींचतें हुए पूछा 

 " नहीं साब मेरी माँ  " 

" क्या हुआ तेरी माँ को ?
 व्यक्ति ने  बच्चे से भौयें सिकोड़ते  पूछा ।

 " माँ , हस्पताल के बाहर पड़ी है । "

( पंकज जोशी )सर्वाधिकार सुरक्षित ।
लखनऊ । उ०प्र०
१९/१०/२०१५

No comments:

Post a Comment