Wednesday, 28 January 2015

लघुकथा :- स्टेटस सिम्बल
--------------------------------
अरे आप अभी तैयार नहीं हुए सुवर्णा अपने पति से बोली । डार्लिंग मैं तो तैयार हूँ अगर आप तैयार हो गयीं हों तो चले एक मिनट रामू काका रूबी कहाँ है रूबी रूबी...देखिये ना एक काम भी ये नौकर ठीक से नहीँ कर सकते हैं अभी तो पार्लर से लाई थी उसे कहीं उसके बाल ना ख़राब हों जाये सुवर्णा अपने पति से शिकायत कर ही रही थी तभी रूबी सुवर्णा की तरफ तेजी से भागते हुए आई और सुवर्णा ने उसे दौड़ कर अपनी छाती से चिपटा लिया । माय बेबी डार्लिंग व्हेयर यू वर आइ वास सो मच वरीड अबाउट यू। सुवर्णा ने अंग्रेजी में कहा । देर हो रही है चलेंगे की नहीं माथे पे मोटी सी बिंदिया ठोकते हुए अपने पति से बोली...अरे मैं तो कब से आपका इंतज़ार कर रहा हूँ । कार में बैठते हुए मेंमसाहब ने अपने नौकर रामू को हिदायत दी देखो बाबा और बेबी को ठीक से खाना खिला कर सुला देना और ज्यादा देर टीवी मत देखने देना । जी मेमसाहब रामू बोला । सुवर्णा अपने पति के साथ कार के अंदर रूबी को लेकर बैठ गई । उधर सिंह साहब के घर शहर के नामी गिरामी समाज सेवकों का जमघट लगा हुआ है , हाथों में लबरेज छलकते जाम , तभी सुवर्णा अपनी गाड़ी से रूबी के साथ उतरती हैं सभी लोग तुरंत उनको घेर के खड़े हो जाते हैं आखिर चीफ सेक्रेट्री की बीवी जो हैं बस लोग शुरू हो गये उनकी तारीफों के पुल बाँधने । तभी उनमे से एक इन्द्राणी उसके पास आई , दोनों गले लगे उँवा-ऊँवा किया ,अरे मिसेज वर्मा कितना प्यारा डॉगी है हाउ स्वीट आपने कितने अच्छे ढंग से इसको सजाया है । बडा महंगा होगा जब इसके बच्चे होंगे तो हमको भी दीजियेगा । डोंट बी सिली इन्द्राणी अगर इसके बच्चे होंगे तो इसका फिगर नहीं खराब हो जायेगा और यह क्या आप इसे डॉगी कह रहीं हैं , यह तो मेरी अपनी बेटी से भी बड़ कर है समझी ना आप मुँह बनाते हुए सुवर्णा बोली अजी सुनते हैं आप देखिये यह सब हमारी बिटिया रानी को डॉगी बुला रहें हैं । अरे आप तो बुरा मान गयीं मिसेज वर्मा अरे हम तो आपके साथ मजाक कर रहे थे आप तो बुरा मान गयीं , अरे भई कोई मेडम के लिए ड्रिंक भी लाएगा या यों ही उनको खड़ा कर रखेंगी । लाइये तो सही थोड़ी देर हम भी तो आपकी बिटिया को अपनी गोद में उठा लें , हमारी प्यारी रानी बिटिया ऊओन् रूबी रूबी । उधर मेडम चौडियाँ कर कुर्सी में ऐसे बैठ गई मानो उनका स्टेट्स सबके बीच बड़ गया हो ।
(पंकज जोशी) सर्वाधिकार सुरक्षित ।
लखनऊ । उ०प्र०
28/01/2015


No comments:

Post a Comment